आर एस एस / भाजपा का सीक्रेट एजेंट है केजरीवाल
| 17 Jan 2020

जन उदय : नागरिकता कानून पर अपनी मौन स्वीकृति देने के बाद और पूरी दुनिया भर में जहा इसका विरोध हो रहा है वही आम आदमी पार्टी केवल चार ऐसे मुद्दों को अपनी विजय का स्तम्भ बता रहे है जो वैसे तो सरकार का फर्ज होता है लेकिन अन्य राज्यों में नहीं है वैसे ये बात अलग है

आम आदमी पार्टी यानी केजरीवाल एंड गैंग की उत्पति इंडिया अगेंस्ट करप्शन भाजपा / आर एस एस की ही एक शाखा है . भगवा आतंकियो की ये ख़ास बात है कि ये छोटे छोटे काम करने के लिए नए नए संघठन काम चलायु के रूप में खड़े कर देते है और जब काम खत्म हो जाता है इन संघठनो को dismental कर दिया जाता है लेकिन केजरीवाल के सनकी और अतिउत्साहित होने और लोगो के बीच अपनी इज्जत बचाने के चक्कर में केजरीवाल को एक पार्टी बनानी पढ़ी और इस पार्टी में सभी लोग भगवा मानसिकता के है और इनका अंतिम उदेश्य हिन्दू राष्ट्र ही है जिसका उधाह्र्ण आज नागरिकता कानून भी है और श्री श्री रवि शंकर द्वारा भारतीय संस्कृति कांक्ल्वे जो यमुना नदी के तट पर हुआ और अन्य इनके काम भी ऐसे ही है ,यमुना नदी के नाम पर अब तक भारत से लेकर दिल्ली सरकार दुनिया भर से आया यमुना सफाई फण्ड डकार चुके है लेकिन यमुना नदी की जमीन पर बने अक्षरधाम मंदिर को नहीं रोका . युमना नदी में भूमाफिया का कब्जा यह वहा पर खेती से लेकर मकान दूकान सब है केजरीवाल इन सबको अपने भगवा अजेंडा के तहत इग्नोर करते है

दिल्ली के स्कूलों में एम् सी डी के ग्रुप फोर की नौकरी केजरीवाल जानबूझ कर नहीं भरते ताकि दलित न आ जाए स्कूलों में टीचर ठेके पर है उनकी भर्ती नहीं होती , डी टी सी में कर्मचारियो को पक्का नहीं करते ये सब एक भगवा षड्यंत्र के तहत हो रहा है , केवल बुजुर्गो को तीर्थ पर भेजने का मतलब भगवा झंडा फहराना

बिजली पानी मोहल्ला क्लिनिक सच में ठीक है लेकिन क्या केजरीवाल के पास दलितों को देने के लिए न्याय है चुनाव में टिकेट नहीं होती , कुल मिला कर देखा जाए केजरीवाल की योजनाये भी सिर्फ भगवा और अपर कास्ट लोगो के लिए ही है दलितों को तो इसलिए मिल जाता है क्योकि वो भी है

जय भीम योजना और अन्य दिल्ली के लोगो के लिए कोई विकास योजना नहीं केवल मुर्ख बनाना भगवा झंडा फहराना ही इनका मकसद है